Chattisgarh News आपदा प्रबंधन यूपी Invite आदेश पारित करने के बाद सरकार द्वारा उस पर विचार किया जायेगा कि किस सेक्टर में किसे राहत(सब्सिडी) देने की जरूरत है. सरकार उसे सब्सिडी अौर राहत की घोषणा करेगी. जो ज्यादा एसी चला कर अतिरिक्त उपभोग कर रहा है, उसे राहत नहीं दी जायेगी.  Powered by: सिविल सेवा ही क्यों? मोगा Also Watch नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय की भी जिम्मेदारी संभाल रहे सिंह ने कहा, ‘‘सौर ऊर्जा क्षेत्र में विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिये हम 20,000 मेगावाट क्षमता की परियोजनाओं की नीलामी करेंगे और इसे विनिर्माण से जोड़ेंगे। यानी इसमें वहीं कंपनियां भाग ले सकेंगी जो सौर ऊर्जा से जुड़े उपकरण का विनिर्माण यहां करेंगी। इसके लिये जल्दी ही वैश्विक निविदा जारी की जाएगी।’’ उन्होंने यह भी कहा, ‘‘पवन और सौर ऊर्जा के क्षेत्र में हम नये क्षेत्रों पर ध्यान दे रहे हैं। इसके तहत तमिलनाडू और गुजरात के अपतटीय क्षेत्र में पवन ऊर्जा तथा देश के भीतर मौजूदा जलाशयों में सौर परियोजनाएं लगाने की दिशा में काम कर रहे हैं।’’ Comments अधिक पढ़ें 1 फरवरी 2018 दिल्‍ली की जमीन गर्मी से बेहाल है और बिजली छुट्टी पर है. ऐसे में बिजली कंपनी बिजली की समस्‍या कम करने के बजाए एनडीएमसी इलाकों में बिजली सस्‍ती कर रही है. Chhapra क्रम 84392 इस कारण प्राकृतिक आपदाओं के लिए भारत विदेशी मदद नहीं लेता है ಕನ್ನಡ दक्षिण अफ्रीका98/10(16.4) Wed, 22 Aug 2018 08:30 PM IST  Leaders Loading… Home > News विद्युत नेटवर्क के चरणों के किसी भी जोड़े के बीच कार्यरत वोल्टेज को रैखिक (यूएबी, यूबीसी, यूसीए) कहा जाता है। यदि चरण वोल्टेज के मॉड्यूल बराबर हैं (| UA | = | यूबी | = | यूसी | = यूएफ), रैखिक वोल्टेज मॉड्यूल बराबर हैं: | यूएबी | = | यूबीसी | = | यूसीए | = उह = यूएफ। आमतौर पर यूएल = 380 वी, यूएफ = 220 वी। कृपया क्लिक करके, होम पेज पर वापस जाइए! ह्यूस्टन। भारतीय बच्ची शेरीन मैथ्यू की याद में डलास में...  February 2018 Like0 @TheQuint परिवहन Last updated: Thu, 22 Mar 2018 06:41 AM IST Find what's happening पश्चिमांचल के सभी चौदह जनपदों में डिस्ट्रिक्ट इलेक्ट्रीसिटी कमेटी का गठन किया गया है. कमेटी के सुझावों पर ही बिजली योजनाओं को आगे बढ़ाया जाएगा. मेरठ में ख्9 मई को बैठक प्रस्तावित है. विशेष दिवस सोशल9 रांची : यहां पानी, बिजली व शौचालय जैसी बुनियादी सुविधाएं भी नहीं 13 14 15 16 17 18 19 मदद 14-Aug-18 09:37 नवभारत टाइम्स ऑन फेसबुक आत्मा योजना :   पुनरीक्षित दिशानिर्देष बाहरी फ़ाइल जो एक नई विंडों में खुलती हैं,   फार्म स्कूल - पुनरीक्षित दिशानिर्देष बाहरी फ़ाइल जो एक नई विंडों में खुलती हैं इकनॉमिक टाइम्स | Updated:Jun 4, 2018, 08:14AM IST (यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.) العربية Tweets not working for you? इक्विटियां HOME CASH BACK DOWNLOAD APP ABOUT US CONTACT US Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email. निर्वाचन कार्य में लापरवाही 4 बीएलओ को महंगी पड़ी, अगस्त माह का वेतन रूका Htcampus.com राज्य के मुखिया ने 80 करोड़ रुपए की लागत वाले कर्मचारी... JAKARTA, INDONESIA, AUG 23 (UNI):-Badminton: Doubles India s Shuttler Chirag Shetty in action on Thursday in 2nd round of Badminton in Jakarta. UNI PHOTO BY SESHADRI SUKUMAR-182U CARSFACTOR English मंत्रालय की संरचना ट्विटर पर ट्रोल हुए राहुल गांधी, बीजेपी ने कांग्रेस के पोस्ट को रीट्वीट करके ली चुटकी MADHYAPRADESH NATIONAL POLITICAL BHOPAL CRIME BUSINESS KARMACHARI JABALPUR INDORE GWALIOR ADMINISTRATIVE INTERNATIONAL EDUCATION BOLLYWOOD CAREER EDITORIAL RELIGIOUS SPORTS LEGAL TECHNOLOGY धरती के रंग KHULAKHAT HEALTH Venezuela - Español मणिशंकर अय्यर का निलंबन रद्द इसके पूर्व मण्डल अध्यक्ष मुकेश कुमार राय के नेतृत्व में पार्टी नेताओं ने भगवानपुर चौक से जुलूस निकाला और प्रखंड मुख्यालय पर पहुंच पुतला दहन किया. इस मौके पर अमलेश कुमार चुन्नू, राजेश राय, बबलू चौधरी, संजीव चौधरी, निरंजन कुमार राय, सकलदेव राउत, रूपेश चौधरी, संजय चौधरी, प्रवीण शेखर, अमित शर्मा, मनीष कुमार समेत कई कार्यकर्ता उपस्थित थे. Email or Phone Password गेस्ट कॉलम Mon, 27 Aug 2018 03:15 PM IST मीडिया धनु अक्टूबर 12, 2017 Ranjeet Jha आपका प्रदेश, ट्रेंडिंग 0 केरल में 357 पहुंचा मौत का आंकड़ा, 3 लाख से ज्यादा लोग बेघर, सड़क, रेल और हवाई यातायात प्रभावित FAQ itimesHot on the Web Platinum 8 योग्यता: बीई/बीटेक/डिप्लोमा Jeevan Mantra फरीदाबाद VIDEO: बिजली कंपनी के खिलाफ कांग्रेस ने किया प्रदर्शन पर्यावरण और सामाजिक प्रबंधन यूएई की जिस 700 करोड़ की मदद पर मचा है हंगामा, उसने ऐसा कोई ऐलान ही नहीं किया एसबीडी Disclaimer Not Found 0 0 उपभोक्ताओं को छूट REVIEW: कॉमेडी का भरपूर डोज है 'हैप्पी फिर भाग जाएगी' दिल्ली में इस कार की कीमत 5लाख 90 हज़ार रुपये (11000 डॉलर) रखी गई है. भारत में पेश किए जाने के बाद इस कार को अगले साल से अफ़्रीका और यूरोप के बाज़ारों में उपलब्ध होगी. मान लीजिए आज मैंने तकनीकी कनेक्शन के लिए बिजली आपूर्ति संगठन (विद्युत वृद्धि की स्थापना के संबंध में क्षमता में वृद्धि) के लिए आवेदन किया है। आज तक, मैं एक सिंगल फेज बिजली की आपूर्ति बिजली 5kW (एचपी-0.4kV समर्थन के साथ घर 2-VA तार में इनपुट) था, और अब मैं 10kW यानी की अतिरिक्त क्षमता के साथ 3 चरण की आपूर्ति करना चाहते हैं कुल 15 किलोवाट (ऊर्जा उपभोक्ताओं के अधिमानी समूह) - 550 रूबल। tehprisoedinenie के लिए। तकनीकी शर्तों में, उन्होंने मुझे लिखा: बैलेंस शीट की सीमा पर एएसपी निष्पादित करने के लिए एक 0,4 केवी डंडे के साथ घर में शाखा बिजली की आपूर्ति कंपनी के स्वामित्व नहीं कर रहे हैं, और समर्थन मेरे देश से 20 मीटर की दूरी पर है - शाखा (केबल सीआईपी) मेरे हो जाएगा। लेकिन तकनीकी विशिष्टताओं में यह भी कहा कि मेरे पास है (बिजली मीटर) के शामिल किए जाने पर नियंत्रण और रीडआउट के लिए एक सुलभ जगह में स्थापित करने के लिए कहा गया है (कारण है कि मैं मेरे घर ??? के मोर्चे पर की जरूरत है) - स्वाभाविक रूप से, कुछ शब्द और सभी एक कुर्सी पर यह जगह के लिए सुविधाजनक। 07/01/87: परिचयात्मक पाँच-तार केबल में कुछ घर के लिए खोज रहे हैं, मैं PUE में विरोधाभासों के पार चलो सामान्य रूप में क्षमता के समकारी और ... की व्यवस्था बनाना चाहते हैं। इमारत प्रणाली समविभव में प्रवेश करने पर निम्न ... और प्रवाहकीय भागों 1.7.87 के संयोजन के द्वारा प्रदर्शन किया जा करने के लिए। इमारत के प्रवेश द्वार पर, निम्नलिखित प्रवाहकीय भागों को जोड़कर equipotential बंधन की एक प्रणाली का प्रदर्शन किया जाना चाहिए: कनेक्ट करना और इंस्टॉल करना दिल्ली सरकार ने बुधवार को वित्त वर्ष 2018-19 के लिए बिजली के नए दरों की घोषणा कर दी है. बिजली के दाम कम होने से दिल्लीवासियों में राहत की आस जगी, लेकिन फिक्‍स्‍ड चार्ज बढ़ने से उपभोक्ताओं को झटका लगा है. BUYBuy Tata Power Company Ltd. with a target of Rs 92 – Kunal Bothra| Recos बिल माफी के लिए घर-घर पहुंच रही बिजली कंपनी की टीम संचालन और रखरखाव मणिशंकर अय्यर का निलंबन रद्द 2.       उड़ीसा इंटीग्रेटिड पावर लिमिटेड आखिरी 2 टेस्ट के लिए हुए टीम इंडिया का एलान, 2 नए चेहरों को मिला मौका about us Feb 16 2018 9:06AM मीटरन प्रोटोकॉल प्रयोगशाला बिल्डिंग सूचना संसाधन इंटरव्यू का सही नज़रिया क्रम 2475 Bombay दन्तेवाड़ा कंपनी का संक्षिप्त परिचय संसाधन जुटाव 6- फव्वारा सिंचाई योजना.. वेबसाइट नीतियां 0 replies 0 retweets 1 like Back to top ↑ अटल जी के साथ यूं हुआ था 1 वोट का 'खेल' 10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात पारेषण नेटवर्क कोरबा में नहीं बनाया एक भी केन्द्र प्रवचन अपराध © 2018 Piyush Goyal. All Rights Reserved Worldwide. होम अप्लाइअन्स © जिला इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश , इस वेबसाईट का निर्माण एवं होस्टिंग राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र, Abhinav Agrawal एजंसी बी.एच.ई.एल. बॉयलर स्‍पेयर्स – कोल नोजल एसेम्‍बली, स्‍ट्रेट पाइप्‍स हिमाचल में लोकसभा सीटों पर शिव सेना की तैयारियां... वातावरण की उपेक्षा की यह स्थिति थी कि खुदाई तथा सुरंग बनाने से निकला सारा मलवा खुलेआम नदी में डाला जा रहा था। योजना बनाने वालों ने किंचित भी परवाह नहीं की कि ऐसा करने से पानी दूषित हो जाएगा तथा जल में रहने वाले जीवों की हानि होगी। जो वृक्ष या वन लगाने की बात योजना वालों ने की थी वह पूरी नहीं की गई। अड़तीस प्रतिशत योजनाओं ने कोई पेड़ नहीं लगाए, योजनाओं की सड़कें तथा सुरंगें बनाने से पहाड़ों के ढलानों को नुकसान हुआ। इन सब बातों का प्रतिकूल प्रभाव नदियों के नीचले भागों में पड़ा। नीचे के जल प्रवाह की माप होनी चाहिए थी तथा उसके मानदंड बनाए जाने चाहिए थे ताकि योजनाओं का वातावरण पर दुष्प्रभाव न पडे, उससे भूमिगत पानी का संचय हो रहा है या नहीं। सिंचाई के लिए क्या बचा पानी पर्याप्त है कि नहीं तथा नदी में कितनी बालू-मिट्टी जमा हो रही है ? यह देखा जाना चाहिए था कि योजनाओं के बनने के बाद पर्यावरण तथा प्रकृति पर क्या प्रभाव पड़ रहा है और उसकी लगातार समीक्षा होनी चाहिए थी। बिजली यंत्रों को चलने से यदि कोई दुष्प्रभाव पड़ रहा है तो उनके संचालन में बदलाव किया जाना चाहिए था। भारत सरकार के सुझावों के अनुसार एक प्रतिशत बिजली सरकार को सहायता के लिए मुफ्त दी जानी चाहिए थी। सीसीटीवी की खरीद में हुआ लाखों का गोलमाल! posted on August 24, 2018 Epaper मध्यप्रदेश में न केवल भरपूर बिजली उपलब्ध है बल्कि अब दूसरे प्रदेशों को भी बिजली बेची जाने लगी है। अब बिजली की दरों पर भी बिजली कंपनी अंकुश लगाने के लिए काम कर रही है। इस संबंध में एक अहम कदम उठाया गया है। बुधवार को पावर मैनेजमेंट कम्पनी और सोलर एनर्जी कारर्पोरेशन ऑफ इंडिया - सेकी के अधिकारियों के बीच एक अनुबंध हुआ। इस अनुबंध में प्रदेश के किसानों के लिए आने वाले 20 साल तक का इंतजाम कर दिया गया है। किसानों को निर्बाध विद्युत आपूर्ति के लिए यह एग्रीमेंट किया गया है। Punjab Kesari The page that you are looking for cannot be found. 14-Aug-18 01:27 फगवाड़ा/कपूरथला बिजली प्रदाता की तुलना करें - अभी खरीदो बिजली प्रदाता की तुलना करें - टेक्सास में सस्ता बिजली कंपनियों बिजली प्रदाता की तुलना करें - इलेक्ट्रिक सेवा प्रदाता
Legal | Sitemap